ननद से लेस्बीयन जिस्माना ताल्लुकात

मेरा नाम रूखसाना है, अभी कुछ माह पूर्व ही मेरा निकाह हुआ है। मेरे शौहर सलीम काफी खूबसूरत बांके जवान हैं और मुझे बहुत लव करते हैं। मैं भी उन्हें बहुत मुहब्बत करती हूँ परन्तु पिछले काफी दिन से मैं एक अजीब सी उलझन में फंस गई हूँ।

मेरी चालू बीवी-26

इमरान सलोनी ने दरवाजा खोला- ओह आप आ तो गए… क्या हुआ प्रणव भैया ??? उसने सलोनी को देख एकदम से गले लगाया और उसके गाल को चूमा… प्रणव हमेशा ऐसे ही मिलता था… विदेशी कल्चर… और उसकी पत्नी रुचिका भी… उसने नजर भरकर सलोनी को देखा… प्रणव- वाह सलोनी… आज तो मस्त सेक्सी लग रही हो… सलोनी- अरे रुचिका कहाँ है भैया… प्रणव- अरे क्या कहूँ हम दोनों यहीं आ रहे थे… कि रुचिका के मॉम-डैड का फ़ोन आ गया… वो कहीं जा रहे थे… मगर कुछ इमर्जेन्सी हो गई… तो अभी आधे घंटे बाद उनका प्लेन यहीं आ रहा है… हम दोनों उनको ही लेने जा रहे हैं… सॉरी यार फिर कभी जरूर आएंगे… मैं- अरे यार एकदम… ये सब कैसे? प्रणव- यार फिर बताऊंगा… मुझे तो इस पार्टी को मिस करने का बहुत दुःख है… अच्छा यार ज़रा जल्दी में हूँ… माफ़ कर दो… तुम दोनों मुझको… उसने एक बार फिर सलोनी को अपने गले लगाया… इस बार मैं पीछे ही था, मैंने साफ़ देखा उसके बायाँ हाथ सलोनी के चूतड़ों पर था… फिर वो तेजी से बाहर को निकल गया… मैं भी जल्दी से बाहर को आया… उसको सी ऑफ करने के लिए… मैं उसके साथ ही नीचे आ गया… रुचिका को भी एक नजर देखने के लिए… रुचिका उसकी महंगी कार में ही बैठी थी… मैं उसकी ओर गया… उसने तुरंत दरवाजा खोला… रुचिका ने पिंक मिनी स्कर्ट और टॉप पहना था… जैसे ही वो नीचे उतरने लगी… उसके बायाँ पैर जमीन पर रखते ही… उसकी स्कर्ट ऊपर हो गई… और दोनों पैर के बीच बहुत ज्यादा गैप हो गया… मुझे उसकी नेट वाली लाल कच्छी दिखी… मेरी नजर वहीं थी कि… रुचिका- ओह अंकुर एक मिनट… मैं सॉरी बोल पीछे हटा… रुचिका ने बाहर आ मेरे सीने से लग गाल को हल्का सा चुम्बन किया… मुझे प्रणव की हरकत याद आ गई… मैंने भी अपना बायाँ हाथ रुचिका के चूतड़ों पर रखा… ओह गॉड मेरी किस्मत… मेरी उँगलियों को पूरी तरह से नंगे, मक्खन जैसे चूतड़ों का स्पर्श मिला… बैठने से रुचिका की स्कर्ट पीछे से सिमट कर ऊपर हो गई थी… और उसने शायद लाल टोंग पहना था… जिससे उसके चूतड़ के दोनों उभार नंगे थे… मेरी उँगलियाँ खुद ब खुद उसके चूतड़ों के मुलायम गोश्त में गड़ गई… मैंने भी रुचिका के गाल पर चुम्मा लिया… और जब गाड़ी में देखा तो प्रणव ड्राइविंग सीट पर बैठ गया था… और वो मेरे हाथ को देख कर मुस्कुरा रहा था… मैंने जल्दी से रुचिका को छोड़ा और पीछे हट गया… रुचिका- सॉरी प्रणव… फिर बनाएँगे यार प्रोग्राम… अब तुम दोनों आना हमारे घर… मैं- कोई बात नहीं… ये सब भी देखना ही था… ठीक है… रुचिका घूमकर गाड़ी में बैठने लगी… उसने अभी भी अपनी स्कर्ट ठीक नहीं की थी… उसके चूतड़ों की एक झलक मुझे मिल गई… ना जाने मुझमे कहाँ से हिम्मत आ गई… मैंने रुचिका को रोका और उसकी स्कर्ट सही कर दी… रुचिका- क्या हुआ अंकुर।?? मैं- अरे या… स्कर्ट ऊपर हो गई थी… रुचिका- ओह… थैंक्स… प्रणव- हा हा हा… रुचिका आज… सलोनी तुमसे कहीं ज्यादा सेक्सी लग रही थी… रुचिका चिढ़कर- …तो नीचे क्यों आ गए… वहीं रुक जाते ना… मैं अंकुर के साथ चली जाती हूँ… प्रणव- ओह यार… मैं तो तैयार हूँ… क्यों अंकुर…?? मैं- हाँ हाँ… ठीक है… सोच ले… मुझे भी उनके सामने कुछ बोल्ड होना पड़ा… प्रणव ने गाड़ी स्टार्ट की- ..चल अच्छा फिर कभी सोचेंगे… वरना इसके पापा सोचेंगे… कि यार मेरी बेटी का पति कैसे बदल गया… और मैं उन दोनों को विदा कर ऊपर आ गया… दरवाजा खुला था… मैं अंदर गया… मधु हमारे बैडरूम के दरवाजे पर खड़े हो चुपचाप अन्दर झाँक रही थी… मैं चुपके से वहाँ गया, मुझे देखते ही वो डरकर पीछे हो गई… मैंने भी अंदर देखा… एक और सरप्राइज तैयार था… अंदर अरविन्द अंकल और सलोनी थे… मैं थोड़ा आश्चर्यचकित हो जाता हूँ… कहानी जारी रहेगी।

बीवी की चूत चुदवाई गैर मर्द से-11

मैं सभी पाठकों का शुक्रिया करना चाहूँगा कि उनको मेरी हिंदी सेक्स कहानी पसंद आ रही है। मैं आप सब पाठकों को पुनः यह बताना चाहता हूँ कि ये कोई मेरी जिंदगी की कहानी नहीं है, यह कहानी एक याहू मैसेंजर के दोस्त की जिंदगी पर आधारित है इसलिए मुझको नेहा से बात करने की.. या उसको चोदने की रिक्वेस्ट वगैरह न भेजें.. बस कहानी का मजा लें।

हुस्न की जलन बनी चूत की अगन-3

मेरा उत्तर सुनकर लता भाभी एकदम रोमांचित हो गई और मुझसे लिपट गई; कहने लगी- देवर जी, यह मेरी खुशकिस्मती है कि आपका लंड फर्स्ट टाइम मेरी चूत में जाएगा और आप पहली बार मुझे चोदोगे.

पड़ोसन मुझसे चुदना चाहती है

मेरा नाम अनिल है, मैं विवाहित हूँ, मेरी पत्नी का नाम पूनम है, हम भोपाल में रहते हैं। यह अब से कोई 4 साल पहले की बात है, मेरी शादी को डेढ़ साल हुआ था, हमारी ख्वाहिश थी कि 3 साल के बाद बच्चा होना चाहिये, इस वजह से मेरी कोई औलाद नहीं थी, मेरी बहुत अच्छी जॉब थी हम बहुत खुश थे। हम लोग अपने मामा जी के मकान में रहते हैं, हमारे मकान के सामने भी एक मकान है जिसमें 34-35 वर्षीय पाण्डेय जी अपनी 30 वर्षीय पत्नी और एक 5 वर्षीय बेटे के साथ उस मकान में रहते है, वह एक प्राईवेट बैन्क में मैंनेजर हैं और जमीन का काम करते हैं। पाण्डेय जी की बीवी को मैं भाभी जी कहता हूँ।

safar me chudai ki kahanisex sister brotherwww chodai ki kahani comheroine real sexgujrati chudai storyhindi storysexygand mari jabardastistories in hindi for adultsxxx stories hindisex store hendi16 साल के देवर जी पर आया दिलmaa ne bete se chudvayaantrvashna.comsasur bahu chudai hindichudai devarmaa sexymarwadi bhabiladki ki ganddelhi ki chutbhn ko chodadulhan ki chudaikaamuk kahanixxx hindi satorixxx girl storyमेरे अंदर सनसनी भर गईgandi gandi chudaiसेक्स चैटneetu ki chudaiantarvasna video onlinestudent teacher sex storychhoti ladki ki chudaisexy story hindi mareal sex kahanisexy rajsthanimadarchod galiमराठीसेक्सीबुआ की चुदाईsali chudai storysexy facebookseduce karke chodadidi chudai kahanichudai desi kahanigand marane ki kahanisexy kahani in hindihidensexbengali sex story in bengalipita ne beti ko chodamaa ka gand maraporn with a storysec stories hindiantarvasna.c omdesi larkikamwasananew hindi chudai ki kahaniindiansexstories.combaba ka sexhindi gandi galiyanchut lund storybhabi auntysxs khanisali ki thukaimaa ki gand mari khet mekachi chut ki kahanireal erotic storiesbehan bhai ki chudai storypapa sex story hindimajduran ki chudaimadarchod ki kahanisex antesdevar bhabhi ki chudai in hindididi ki chut marichudai ki kahani hindi fontchachi aurindan sex hindihindi sex satoribhabhi ki chudae ki kahaniantarasnakamukta kamuktaantarvasna kahani in hindianterwasna in hindilali ki chudainew sex story in hindi languageantarvasna devarpooja chutchut ka jaduchudai ki kahani hindi maantarvasna hot storieshindi sexsy