मेरी बहन और जीजू की अदला-बदली की फैंटेसी-6

🔊 यह कहानी सुनें
अब तक की भाई बहन की अदला बदली करके चुदाई की कहानी का मजा लेते हुए आपने पढ़ा था कि मेरे जीजू की बहन आलिया ने मेरी अपनी बहन के साथ गांड चुदाई की वीडियो बना ली थी. फिर वही मेरी दीदी ने भी आलिया की गांड चुदाई की वीडियो बना कर किया.
गांड चुदाई के बाद आलिया चली गई थी और दीदी मेरी गोद में बैठी मस्ती कर रही थीं.
तभी मेरी डैडी का फोन आ गया.
अब आगे:
फोन पर :
मैं- हैलो डैडी.
डैड- क्या कर रहे हो?
मैं- बस दीदी के साथ बैठकर टीवी देख रहा हूँ.
डैड- फोन चित्रा को देना.
मैं- जी.
मैंने दीदी को फोन दे दिया और उनके बदन से खेलने लगा. दीदी डैड से बात करने लगीं. वो फोन पर बात करते हुए मुझे रुकने को कह रही थीं.
कुछ देर बाद दीदी ने मुझे फोन दे दिया और मैं डैड से बात करने लगा. इसी बीच दीदी अपने सारे कपड़े लेकर चली गईं.
डैड- सुनो … तुम्हें एक मीटिंग के लिए दुबई जाना है, क्योंकि मुझे अहमदाबाद जाना है और मैं दुबई नहीं जा पाऊंगा.
मैं- ठीक है डैडी.
डैड का कॉल कट गया. मैं डैड की बात सुनकर थोड़ा मायूस हो गया था क्योंकि मुझे यहां पर चुदाई में बहुत मजा आ रहा था.
एक पल सोचने के बाद मैंने अपने कपड़े पहन लिए और रसोई में जाकर फ्रिज से पानी की बोतल निकाल कर पानी पीते हुए अपने रूम में आ गया.
मैं अपने रूम में फोन इस्तेमाल कर रहा था, और कुछ देर आंखें मूंद कर सो सा गया.
कोई एक घंटे बाद मुझे दीदी की आवाजें सुनाई देने लगीं. वो मुझे खाना खाने के लिए बुला रही थीं. मैं फोन का इस्तेमाल करते हुए कमरे से बाहर आया और हॉल की ओर चला गया. मैंने वहां जीजा जी और आलिया को भी बैठा देखा. मैं वो तीनों के साथ बैठ गया.
दीदी खाना परोसने लगीं और हम सभी ने खाना शुरू कर दिया.
मैं- जीजा जी, आप कब आए?
जीजा जी- अभी दस मिनट पहले ही आया हूँ.
मैं- दीदी, कल मैं घर जाकर आ रहा हूं.
दीदी- क्यों अभी तो आए हो.
मैं- वो एक्चुअली मुझे एक मीटिंग की वजह से दुबई जाना है.
आलिया- मीटिंग में अंकल नहीं जा सकते हैं क्या?
मैं- डैड उस दिन किसी काम से अहमदाबाद जा रहे हैं, इसलिए मुझे जाना पड़ेगा.
जीजा जी- मतलब आज तो फुल नाइट मस्ती की होगी.
दीदी- हां … तुम बस यही सोचना.
मैं- मुझे भी जाने का मन तो नहीं कर रहा है, लेकिन जाना पड़ेगा.
आलिया- तुम्हारा जाने का मन भी कैसे करेगा. इधर इतना मजा जो मिल रहा है.
मैं- हां यह तो है.
अविनाश- आज रात को दोनों पूरी तरह से तैयार रहना, क्योंकि रात को दंगल होने वाला है.
(वैसे दंगल से मुझे याद आया आपने मेरी पिछली कहानी
होली में चुदाई का दंगल
पढ़ी होगी. अगर वो किस्सा नहीं पढ़ा है, तो एक बार जरूर पढ़िएगा, जिसमें एक मर्द होली के दिन अपनी बीवी, बहन और साली की भरपूर चुदाई करता है.)
जब जीजा जी ने अभी ही दंगल शुरू करने की बात कही, तो सब हंसने लगे. दंगल की बात पर उन दोनों ने बोल दिया था कि अभी नो सेक्स, सिर्फ रात को ही जो होना होगा सो होगा.
फिर खाना खाने के बाद हम अपने-अपने कमरे में चले गए. शाम को हम जीजा-साले टीवी देख रहे थे और वो दोनों रसोई में खाना बना रही थीं.
मैं- आज की आखिरी रात है, क्यों ना हम कुछ नया करें.
जीजा जी- क्या नया?
मैं- आप ही बताओ.
जीजा जी- आखिरी नाइट है तो क्यों ना आज वाइल्ड सेक्स हो जाए. मेरे पास पॉवर बढ़ाने के लिए सेक्स की गोलियां है … जिससे हम सब लगातार आनन्द ले सकेंगे.
मैं- ठीक है.
जीजा जी- चल आज हम शर्त लगाते हैं कि कौन सबसे ज्यादा चुदाई करता है.
मैं- ओके … और जीतने वाले को क्या मिलेगा?
जीजा जी- जो तू बोले.
मैं- मैं तो कल से यहां से चला जाऊंगा, यानि कल से इस घर में आप एक ही मर्द रहेंगे. अगर मैं जीतता हूं, तो जब तक हम चारों दोबारा नहीं मिलते हैं, तब तक आप सेक्स नहीं करोगे … और आप जीते, तो आप जो बोलेंगे, वो मैं करूंगा.
जीजा जी- आलिया को न चोदने का तो समझ आता है, लेकिन मैं अपनी बीवी को भी नहीं चोद सकता?
मैं- चलो आपके लिए थोड़ा आसान कर देता हूँ, आप महीने में सिर्फ एक बार दीदी के साथ सेक्स कर पाएंगे.
जीजा जी- डन.
उधर वो दोनों रसोई में एक-दूसरे से बात कर रही थीं.
चित्रा- आलिया, आज रात के लिए तैयार हो न?
आलिया- अब तो आदत पड़ गई है, उन दोनों जीजा-साले ने मेरी चुत और गांड को पूरी तरह से खोल दिया है. कुछ भी मार लें, मैं पूरी तरह से तैयार हूँ.
चित्रा- यह बात तो तुम सच कह रही हो, इन तीन-चार दिन में हम दोनों चुदक्कड़ हो गई हैं.
आलिया हंसते हुए- देख लेना भाभी, वो दोनों आज पूरी ताकत लगाकर चुदाई करेंगे.
इसके बाद हम चारों रात को डिनर करने आ गए. उन दोनों ने खाने में मेरी पंसद की चीजें बनाई थीं. मैंने उन दोनों को धन्यवाद किया. फिर खाना खाने के बाद हम दोनों मर्द सोफे पर बैठ गए. वो दोनों चुदक्कड़ चूतें बर्तन साफ करके हमारे पास आ गईं. दीदी फ्रिज से ठंडी व्हिस्की की बोतल लेकर आ गई थीं.
मेरे साथ आलिया बैठ गई और दीदी जीजा जी के पास बैठ गईं. फिर दीदी ने हम चारों के लिए पैग बनाए और हम चारों चियर्स करके पैग मारने लगे. हम चारों टीवी देखते हुए शराब का आनन्द ले रहे थे, क्योंकि हम चारों को पता था कि आगे क्या होने वाला है.
हम चारों ने दूसरा पैग लगाना चालू कर दिया था. जीजा जी ने सिगरेट जला ली थी और एक मैंने जला ली थी.
जीजा जी- साले साहब पहले किसके साथ मजा करोगे. अपनी दीदी के साथ या मेरी बहन के साथ?
मैं- शुरुआत तो अपनी दीदी के साथ करूंगा.
अविनाश- ठीक है, हम तो अपनी बहन को चोदने चले.
इतना कहकर जीजा जी ने आलिया को सिगरेट दे दी और उसे गोद में उठा कर कमरे में ले गए. उनके जाते ही मैं खड़ा हुआ और लंड सहलाते हुए दीदी के पास आ गया. मैंने दीदी को सिगरेट दी और उन्हें गोद में उठाकर उसी कमरे में ले गया … जिधर जीजा जी अपनी बहन आलिया को चोदने के लिए गए थे.
दीदी मुझे देखकर सेक्सी स्माइल करने लगी थीं. जब हम दोनों उस कमरे के अन्दर आए, तो अन्दर जीजा जी अपनी बहन आलिया को बांहों में लेकर किस कर रहे थे. मैं भी दीदी को किस करने लगा और दीदी भी मेरा साथ देते हुए किस करने लगीं. हम चारों रोमांस की मस्ती में मशगूल हो गए थे.
जीजा जी- राज!
मैं जीजा जी की ओर देखने लगा. तभी जीजा जी ने मुझे सेक्स की दो गोली दे दीं. हम चारों गोली खाकर वापस रोमांस करने लगे.
मैं दीदी की गांड को सहलाते हुए किस कर रहा था. तभी दीदी ने मेरी टी-शर्ट को निकाल दिया और मैंने दीदी की टी-शर्ट निकाल दी. आज दीदी ने अन्दर ब्लैक रंग की ब्रा पहनी थी.
उधर उन दोनों ने भी अपने कपड़े निकालने शुरू कर दिए थे.
मैंने दीदी की पीठ पर हाथ ले जाकर उनकी ब्रा का हुक खोला और ब्रा उतार दी. ब्रा हटते ही दीदी के मदमस्त चूचे हवा में फुदकने लगे. मैं दोनों हाथों से दीदी के मम्मों को दबाने लगा, जिससे दीदी गर्म होने लगीं.
दीदी आनन्द लेते हुए उन दोनों को देख रही थीं. मैं भी दीदी के मम्मों को दबाते हुए उन दोनों को देखने लगा.
तभी जीजा जी ने आलिया को घुटने के बल बैठा दिया. आलिया ने जीजा जी का लोवर और निक्कर निकाल कर उनके लंड को पकड़ लिया. वो लंड सहलाते हुए चूसने लगी थी.
सच में आलिया इस समय बहुत हॉट लग रही थी, उसने अभी भी प्रिन्टेड ब्रा पहनी हुई थी.
मैं दीदी के निप्पल मींजने लगा था. तभी दीदी मुझे रोककर मेरे होंठों को चूमने लगीं. फिर दीदी मेरे सामने बैठ गईं . दीदी ने मेरे बदन को चूमते हुए मेरा लोवर और निक्कर निकाल दिया और मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगीं.
अब गोली की असर होने लगा था. इस समय दोनों लंड को बहुत अच्छा ब्लो जॉब मिल रहा था.
मैं एक हाथ से दीदी के मम्मों को मसल रहा था. हम दोनों कामुक आवाजें करते हुए एक दूसरे तरफ देख रहे थे. तभी जीजा जी ने मुझे इशारा कर दिया.
मैं समझ गया. हम दोनों ने उन दोनों को बेड पर ले जाकर लेटा दिया. फिर हम दोनों ने बिना देरी किए उन दोनों की शॉर्ट और पैंटी निकाल दीं और उनकी टांगें फैलाते हुए उनके ऊपर चढ़ गए.
मैंने दीदी की चुत पर लंड सैट करके एक जोर का धक्का लगा दिया, जिससे आधा लंड चुत में घुस गया. फिर मैं बिना रुके बड़ी तेजी के साथ दीदी की चुत में लंड पेलने लगा.
मेरे बाजू में जीजा जी भी बड़ी तेजी के साथ आलिया को पेल रहे थे. वो दोनों लेडीज इस समय बहुत चुदासी हो गई थीं.
मैं दीदी के मम्मों पर हाथ रखकर उन्हें बहुत तेजी से चोद रहा था. दीदी भी अपनी टांगों को हवा में उठाकर चुदवा रही थीं.
पूरे कमरे में कामुक आवाजें और फच फच फच की आवाजें गूंज रही थीं.
आलिया- उम्म्ह… अहह… हय… याह… या ओह आहह भाई … आज दवा से आपका लंड कुछ ज्यादा ही कड़क हो गया है.
दीदी- आहह आह आह राज … मेरे भाई … चोद दो मुझे … आह कम ऑन भैनचोद चोद दे अपनी बहन को … आंह और जोर से पेल.
आलिया- आहह आह चोद बहनचोद.
दीदी की गाली सुनकर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और उधर जीजा जी भी नशे की वजह से आलिया को जोरों से चोद रहे थे. हम दोनों पूरा जोर लगा कर अपनी बहनों को चोद रहे थे और वो दोनों कामुक आवाजें कर रही थीं- आहह आह या ओह आहह.
दीदी- आह राज, बहुत मोटा लंड है ये … आज तो तू मेरी चुत फाड़ ही दे भोसड़ी के … अपनी बहन की चुत का भुर्ता बना दे.
मैंने दीदी की चुदास देखी, तो उनको घुमाकर घोड़ी बना दिया और उनकी गांड में लंड पेल कर गांड मारने लगा.
तभी जीजा जी ने भी अपनी बहन को घोड़ी बना दिया और उसकी गांड चोदने लगे.
जीजा जी- अंह चुद साली चुद … आहह. देख राज … तेरी गर्लफ्रेंड कैसी रांड की तरह चुद रही है.
मैं- आपकी बीवी भी मजे से गांड चुदवा रही है.
आलिया- आहह आह चोद दे कमीने … और जोर से चोद मादरचोद.
जीजा जी ने भी उत्साहित होकर आलिया की गांड पर चपत लगाना शुरू कर दीं. उनकी देखा देखी मैंने भी चपत लगाना शुरू कर दीं. वो दोनों दर्द के मारे छटपटा रही थीं.
दीदी- आहह भाई, क्या कर रहा है … साले … अपनी बहन की चुदाई कर रहा है या ठुकाई कर रहा है … आह लगती है..
आलिया- भाई मत मारो यार … गांड मार लो … चपत मत मारो.
जीजा जी- चुप साली … रांड भैन की लौड़ी … लंड खा और चुप रहा कमीनी कुतिया.
दीदी- आहह आह आह राज ओ भाई.
चपत की वजह से दीदी की गांड लाल हो गई थी और ऐसा ही हाल आलिया का भी हो गया था.
फिर हम दोनों ने अपनी जगह बदल ली और बदली हुई गांड को बिना रुके चोदने लगे. मैं आलिया को चोद रहा था, जीजा जी दीदी को चोद रहे थे. मैं जोरों से आलिया की गांड मारने में लगा था, जिससे वो बहुत ज्यादा कामुक आवाजें करने लगी थी.
आलिया- आहह आह आह राज, यू आर सो हार्ड … फक मी … आह आह या यस आह..
दीदी- आह ओह बेबी कम ऑन फक इट.
फिर मैं आलिया को लेटाकर उसकी चुत को चोदने लगा.
जीजा जी- चित्रा मजा तो आ रहा है न?
चित्रा- हां यार बहुत ज्यादा … अब चुत में डालो न!
कुछ देर बाद जीजा जी भी दीदी को लेटाकर चुत चोदने लगे.
करीब आधे घंटे तक हम उन दोनों की घमासान चुदाई करते रहे, तभी जीजा जी दीदी की चुत के बाहर उनके बदन पर झड़ गए, लेकिन मैं अभी भी आलिया को चोदने में लगा था. जीजा जी ने दीदी के मुँह में लंड घुसा दिया और दीदी लंड को बड़े मजे से चूसने लगी थीं.
इतने में आलिया भी झड़ गई और फिर एक मिनट बाद मैं भी बाहर झड़ गया. मैं आलिया के पास लेट गया.
हम दोनों हांफ रहे थे, उधर दीदी जीजा जी को ब्लोजॉब दे रही थीं. फिर आलिया ने ये देखा तो उसने मेरे लंड को चूसकर साफ किया और बाथरूम में चली गई. कुछ देर बाद जीजा जी भी बेड पर लेट गए. दीदी भी बाथरूम चली गईं.
जीजा जी- राज, तुम बहुत बेहतरीन चोदते हो.
मैं- और आप भी … वैसे मैं शर्त जीत गया न.
जीजा जी- हां बिल्कुल.
दस मिनट बाद दीदी और आलिया बाथरूम से बाहर आ गईं. इधर हम दोनों अपने लंड को सहला रहे थे.
दीदी मेरे पास आईं और आलिया जीजा जी के पास चली गई.
वो दोनों हमारे ऊपर चढ़ गईं और किस करने लगीं.
मैंने दीदी की गांड पर हाथ सहलाते हुए उसके होंठों को घुमा लिया. मेरा लंड फिर से उनकी गांड चोदने के लिए तैयार हो गया था. मैंने दीदी की गांड में लंड घुसाकर उनकी कमर पकड़ ली और चोदने लगा. उधर आलिया जीजा जी के बदन को चूम रही थी.
दीदी चुदासी होकर मेरे लंड पर उछलकर चुद रही थीं. तभी जीजा जी भी अपनी बहन की गांड में लंड घुसाकर चोदने लगे.
यह घमासान चुदाई करीब दस मिनट तक चली और फिर हम चारों थक गए.
जीजा जी- अब मैं थक गया हूँ … अब तुम ही करो. राज इन दोनों को तुम अच्छे से चोदना.
इतना कहकर जीजा जी अपने झड़े लंड को हिलाते हुए कमरे में चले गए.
इसके बाद आलिया, दीदी के ऊपर सवार हो गई और वो दोनों लेस्बियन किस करने लगीं. मैं थोड़ी देर ऐसे ही पड़ा रहा. फिर मैं भी खड़ा होकर नग्न अवस्था में रसोई में पानी पीने चला गया.
जब मैं पानी पी कर एक बोतल पानी लेकर वापस आया, तो देखा कि वे दोनों अभी भी किस करने में ही लगी हुई थीं. मैंने दीदी के पीछे जाकर उनकी गांड में लंड घुसा दिया. दीदी ने हल्की सी कराह ली और लंड को जज्ब कर लिया. मैं लम्बे झटके मारते हुए दीदी की गांड चोदने लगा.
तब तक आलिया ने एक सिगरेट सुलगाई और हम दोनों की गांड चुदाई देखने लगी.
मैंने दीदी की गांड से लंड निकालकर दीदी को हटाया और आलिया के दोनों पैरों को ऊंचे करके आलिया की गांड में लंड पेल दिया. दीदी ने आलिया के हाथ से सिगरेट ले ली और वो हम दोनों को चुदाई करते हुए देखने लगीं.
मैं आलिया की गांड मारने में लगा था. दीदी बेड पर लेटकर अपनी चुत में उंगली करते हुए सिगरेट का मजा ले रही थीं.
आलिया कुछ ही देर में चुदाई की वजह से कामुक आवाजें करने लगी- आह राज आंहह उह … कितना मजा देते हो यार!
कुछ देर आलिया की गांड मारने के बाद मैंने लंड खींचा और दीदी के पास लेट चित लेट गया. तभी दीदी मेरे लंड को चूसने लगीं. आलिया थकावट की वजह से चुपचाप अपनी चुत को सहलाते हुए हमें देख रही थी.
करीब रात के दो बजे तक हमने चुदाई की. मैंने उन दोनों की बारी-बारी से चुदाई की और तीनों पूरी तरह से थककर एक दूसरे के बदन से चिपककर सो गए.
जब मैं सुबह उठा, तब कमरे में कोई भी नहीं था. इसलिए मैं कपड़े लेकर अपने रूम में चला गया और बाथरूम में जाकर नहाने लगा. मैं फव्वारे के नीचे खड़ा यहां बिताए इन चार दिनों के बारे में सोचने लगा था. सच में इन चारों दिनों को मैं कभी भी भूल नहीं पाऊंगा.
फिर फ्रेश होकर नाश्ता करने के लिए मैं हॉल में आ गया. वहां वो तीनों नाश्ता कर रहे थे.
मैं- गुड मॉर्निंग गाइस.
जीजा जी- गुड मॉर्निंग.
आलिया- गुड मॉर्निंग.
दीदी- सामान पैक कर लिया?
मैं- हां.
जीजा जी- कैसी रही रात?
मैं- सबसे बेहतरीन.
जीजा जी- कब निकलने वाले हो?
मैं- बस नाश्ता करके.
जीजा जी- गुड.
फिर हम नाश्ता करने लगे और उसके बाद मैं अपने रूम में बैग लेने के लिए आ गया.
वहां बाहर वो तीनों मेरा इन्तजार कर रहे थे. आलिया मुझे छोड़ने के लिए एयरपोर्ट जाने वाली थी.
दीदी और जीजा जी भी बाहर तक छोड़ने आए. मैंने कार के पीछे डिक्की में अपने बैग को रख दिया.
मैं- चलो … मैं चलता हूँ. बाय.
दीदी- ठीक है.
जीजा जी- अब वापस कब आओगे?
मैं- देखता हूँ.
मैं दीदी के गले मिलकर उनके साथ एक किस करके कार में बैठ गया. कार आलिया ड्राइव कर रही थी और हम दोनों वहां से निकल गए. रास्ते में हम दोनों ने खूब सारी बातें कीं. जब हम एयरपोर्ट पर पहुंचे, तब कार पार्किंग में कार पार्क करके दोनों एक दूसरे को किस करने लगे.
मैं- मुझे जाना होगा जान!
आलिया प्यार से- प्लीज रुक जाओ न.
मैं- जाना जरूरी है.
फिर मैंने कार से बाहर निकल कर उसको आखिरी हग किया और वहां से एयरपोर्ट के अन्दर चला गया.
जब मैं फ्लाईट में बैठा तो मैं इन चार दिनों को अपनी यादों में बसाने लगा कि कैसे मैं चार दिन पहले यहां पर आया था.
मैंने अपनी दीदी को चोदा और आलिया की चुत की सील को तोड़ा. कैसे हमने इन चार दिन में चुदाई का आनन्द लिया, कैसे हम जीजा-साले ने दो मदमस्त लड़कियों यानि अपनी-अपनी बहनों को एक चुदक्कड़ औरत बना दिया. कैसे हमने उन दोनों की चुत और गांड को पूरी तरह से खोल दिया, कैसे हमने अपने बहन की चुत में अपना गर्म लावा डाला, कैसे हमने उन दोनों के साथ चुदाई का भरपूर आनन्द लिया.
आपको मेरी ये सेक्स कहानी कैसी लगी. प्लीज़ मुझे मेल करके बताएं.

लिंक शेयर करें
gandi kahaniyanonvegstorynun sex storiessexi kahania hindisexy hindi baateinhindi kamkathaantarvasna gay videosराजसथानी सेकसीfamily ko chodaxxx book in hindicollege sexy storyfirst night story hindibaap beti ki chudai ki storywww hindi sexy storyssagi behan ko chodamuthi marnachut ka milansasur ki chudaisex magazine hindihinfi sex storybhabhi ki chudai sexy storydase khanihindi sex st comincect sexwww desi sex kahanihindi sax story in hindinaukrani ko chodachudai ki kahani in hindi mema beta ka sexsex with friend wife storychut chatne ki piclun fudi storydesi chudai story hindisexi chudai ki kahaniyaindain sex storiesbhabi ki jwanidesi hindi sex storiesdesi randi storydudhwali bhabhimaa beta hindi sex storyindian bhabi storiessexy chudai ki storysexi kahani in marathiguy sex story hindimastram kiभाभीजान को जोर से एक चुम्मीdesi nude storysexi kahani photowife cheating sex storiesbehan sewww sex storey comindian gay story in hindiwww hindi sex netchachi ki chukamukta khaniyawww kamukta canatrvasanachachi ki kahanisexstory in hindisexsi stori in hindisexstory sitedevar and bhabibibi ki chutpunjabi chuthindi zavazavi storyantar vasana.combaap beti ki suhagraatbengali fucking storyma ko bus me chodahindi sex chudai ki kahani